Khade Khade Bus Me Sex Indian Hindi sex Chudai Antarvasna Kamukta

खड़े खड़े बस में सेक्स

Indian Sex Hindi sex Chudai Antarvasna Kamukta मेरा नाम रश्मि है और मैने अभी-अभी जवानी की दहलीज़ पर कदम रखा है । मैं एक आमिर माँ-बाप की बेटी हु और काफी बिगड़ी हुई औलाद हु । मेरे माँ और बाप दोनों के पास ही मेरे लिए वक़्त नहीं है और मैं परवरिश नौकरों के भरोसे हुई है । मैं जिन्दा हु कि नहीं, किसी को फर्क नहीं पड़ता ; क्योकि, जब मैं पैदा हुई तो, पुरे परिवार को एक लड़का चाहिए था और वो नहीं हुआ ; बाद में, मेरी माँ दुबारा बच्चा पैदा करने के लिए मना कर दिया ; तो किसी को मेरी परवाह नहीं रही । जब तक मेरी बुआ थी ; तब तक तो सब ठीक था और मेरी परवरिश हो रही थी और जब वो परिवार के माहौल से परेशान हो गयी, तो उन्होंने घर छोड़ दिया और किसी दुसरे शहर में चली गयी । उसके बाद तो, मुझपर ध्यान देने वाला कोई नहीं था और मेरी जो भी परवरिश हुई, वो सब मेरे रिश्तेदार और नौकरों के साथ हुई ।सही समय पर सही बात ना पता चलने के कारण, मैं बिगड़ती चली गयी और काफी जल्दी सेक्स और संभोग के बारे में जान गयी थी । मुझे घर के काफी नौकर और मेरे कुछ रिश्तेदार चोद चुके थे और एक समय आया, जब मैं अपने आप को वेश्या समझने लगी थी और जब भी और जहाँ भी लंड मिल जाता था, तो मौका नहीं छोडती थी । ऐसा ही एक वाकया, मेरे साथ बस में सफ़र करते हुआ । मैं कही से वापस आ रही थी और उस दिन बस में काफी भीड़ थी । मैं गलियारे के साथ वाली सीट पर बैठी थी और मेरे पास मेरा बैग था । मेरे साथ में, एक मुझसे 10-12 साल बड़ा आदमी खड़ा था और उसने लुंगी पहनी हुई थी, शायद किसी गाँव से तालुक रखता होगा । अचानक से झटका लगा और मेरा हाथ उसके लंड पर जाकर लगा और मैने उसको पकड़ ही लिया था । जब मुझे ये महसूस हुआ, तो मैने अपना धीरे से हटाया, लेकिन वो आदमी एक दम पीछे हो गया । उस दिन साला, बस में गज़ब की भीड़ थी और सब लोग एक दुसरे के ऊपर चढ़े जा रहे थे ।जब मेरा हाथ लगा, तो मुझे उस आदमी के लंड के मोटापे का अहसास हो गया और उसके मोटे लंड के बारे में सोचकर मुझे एक शरारत सूझने लगी । अब मुझे उसका लंड चाहिए था और मुझे कुछ ना कुछ करना था । उस आदमी ने मुझे से छमा मांगी, लेकिन मैं जवाब में मुस्कुरा उठी । वो मेरा इशारा समझ गया, लेकिन बस में काफी लोगो की शर्म करके पीछे हट गया । मैने एक स्कर्ट पहनी हुई थी और उसके नीचे बहुत ही पतली वाली पेंटी । अगर, कोई पीछे से मेरे पेंटी को देखता, तो उसे पेंटी के बजाय मेरी गांड की लकीर दिखती । मुझे एक मजाक सुझा ; मैं थोड़ी सी उठी और अपनी स्कर्ट को नीचे से अटका दिया और मेरी स्कर्ट नीचे रह गयी और मेरी पेंटी उस आदमी के नजरों के सामने आ गयी । उस आदमी को मेरे पुरे नितम्ब और उनकी लकीर देख गयी और मैने उस आदमी को देखकर आँख मार दी । अब तो बिल्कुल समझ गया, कि मेरे इरादे क्या है ? वो मेरे पास आकर खड़ा हो गया और मैने अपना बैग उसके सहारे खड़ा कर दिया और उसके लंड को पकड़ लिया और मैने उसकी लुंगी में हाथ डाल दिया और उसके लंड को खींचने लगी ।वो आदमी कुछ कर नहीं पा रहा था और पसीने-पसीने हो रहा था । मुझे मज़ा आ रहा था, लेकिन में उसके लंड अपने शरीर पर महसूस करना चाहती थी । मैने इधर-उधर देखा ; एक आंटी मेरे पास में खड़ी थी और उनके पास काफी सामान था । मैं अपनी सीट से उठ गयी और उनको अपनी सीट दे दी और अपना सामान भी उन्ही को दे दिया । अब मैं उस आदमी के सामने मुह करके खड़े हो गयी और बिल्कुल सट गयी । अब उस आदमी का लंड मेरे शरीर पर लगना शुरू हो गया था । बस इतनी भीड़ थी, कि कौन क्या कर रहा है, किसी को पता ही नहीं चल सकता था । मैने अपनी स्कर्ट की जिप खोल दी और उससे चिपट गयी । मैने नीचे हाथ डालकर उसके लंड को अपनी जिप से अपने अन्दर घूसा लिया और वो आदमी बस के साथ हिल-हिलकर अपना लंड मेरी चूत से रगड़ने लगा । मैने भी उसका लंड अपनी टांगों से कसकर दबा लिया और उसके लंड को चोदने लगी । मैं उसके लंड अपनी चूत से ठीक से रगड़ नहीं पा रही थी, तो मैने थोडा सा झुककर अपनी पेंटी साइड में कर दी और उसके लंड को अपनी चूत के दरवाजे पर लगा दिया । अब उसका लंड मेरी चूत पर टक्कर मर रहा था और उसका लंड मेरी टांगों में घूसा हुआ चुद रहा था ।उसने कुछ देर बाद एक दो तेज झटके मारे और मेरी पेंटी पर पूरा पानी छोड़ दिया । मैं तो पहले ही अपना पानी छोड़ चुकी थी और मेरी चूत से पानी धीरे-धीरे रिस रहा था । मेरी सारी पेंटी खराब हो गयी और उसने अपना लंड खींच कर हाथ डालकर अपनी लुंगी से पूछ लिया । मेरा स्टॉप आ गया था, मैं बस से उतारकर चली गयी और वो आदमी अपने रास्ते चले गया । हम दोनों कभी दुबारा नहीं मिले, लेकिन उस दिन बस में रस निकलवाने में मुझे मज़ा बहुत आया ।


Khade Khade Bus Me Sex

Indian Sex Hindi sex Chudai Antarvasna Kamukta Mera Naam Rashmi Hai Aur Maine Abhi - Abhi Jawani Ki Dahleej Par Kadam Rakha Hai । Main Ek Aamir Maa - Baap Ki Beti हु Aur Kafi Bigdi Hui Aulaad हु । Mere Maa Aur Baap Dono Ke Paas Hee Mere Liye Waqt Nahi Hai Aur Main Parvarish Naukaron Ke Bharose Hui Hai । Main Jinda हु Ki Nahi , Kisi Ko Fark Nahi Padta ; Kyoki , Jab Main Paida Hui To , Pure Pariwar Ko Ek Ladka Chahiye Tha Aur Wo Nahi Hua ; Baad Me , Meri Maa Dubara Bachha Paida Karne Ke Liye Mana Kar Diya ; To Kisi Ko Meri Parwah Nahi Rahi । Jab Tak Meri Bua Thi ; Tab Tak To Sab Theek Tha Aur Meri Parvarish Ho Rahi Thi Aur Jab Wo Pariwar Ke Mahaul Se Pareshan Ho Gayi , To Unhonne Ghar Chhod Diya Aur Kisi Dusare Shahar Me Chali Gayi । Uske Baad To , Mujhpar Dhyan Dene Wala Koi Nahi Tha Aur Meri Jo Bhi Parvarish Hui , Wo Sab Mere Rishtedar Aur Naukaron Ke Sath Hui । Sahi Samay Par Sahi Baat Na Pata Chalne Ke Karan , Main बिगड़ती Chali Gayi Aur Kafi Jaldi Sex Aur Sambhog Ke Bare Me Jaan Gayi Thi । Mujhe Ghar Ke Kafi Naukar Aur Mere Kuch Rishtedar Chod Chuke The Aur Ek Samay Aaya , Jab Main Apne Aap Ko Vesya Samajhne Lagi Thi Aur Jab Bhi Aur Jahan Bhi Lund Mil Jata Tha , To Mauka Nahi Chodti Thi । Aisa Hee Ek Vaakaya , Mere Sath Bus Me Safar Karte Hua । Main Kahi Se Wapas Aa Rahi Thi Aur Us Din Bus Me Kafi Bheed Thi । Main Galiyare Ke Sath Wali Seat Par Baithi Thi Aur Mere Paas Mera Bag Tha । Mere Sath Me , Ek Mujhse 10 - 12 Sal Bada Aadmi Khada Tha Aur Usane Lungi Pahni Hui Thi , Shayad Kisi Village Se taaluk Rakhta Hoga । Achanak Se Jhatka Laga Aur Mera Hath Uske Lund Par Jakar Laga Aur Maine Usko Pakad Hee Liya Tha । Jab Mujhe Ye Mehsoos Hua , To Maine Apna Dhire Se Hataya , Lekin Wo Aadmi Ek Dum Pichhe Ho Gaya । Us Din Sala , Bus Me Gazab Ki Bheed Thi Aur Sab Log Ek Dusare Ke Upar Chadhe Jaa Rahe The । Jab Mera Hath Laga , To Mujhe Us Aadmi Ke Lund Ke Motape Ka Ehsaas Ho Gaya Aur Uske Mote Lund Ke Bare Me SochKar Mujhe Ek shararat सूझने Lagi । Ab Mujhe Uska Lund Chahiye Tha Aur Mujhe Kuch Na Kuch Karna Tha । Us Aadmi ne Mujhe Se छमा Mangi , Lekin Main Jawab Me Muskura Uthi । Wo Mera Ishaara Samajh Gaya , Lekin Bus Me Kafi Logo Ki Sharm Karke Pichhe Hat Gaya । Maine Ek Skirt Pahni Hui Thi Aur Uske Niche Bahut Hee Patli Wali panty । Agar , Koi Pichhe Se Mere panty Ko Dekhta , To Use panty Ke Bajay Meri Gand Ki Lakeer दिखती । Mujhe Ek Majak Sujha ; Main Thodi Si Uthi Aur Apni Skirt Ko Niche Se Atka Diya Aur Meri Skirt Niche Rah Gayi Aur Meri panty Us Aadmi Ke Najaron Ke Samne Aa Gayi । Us Aadmi Ko Mere Pure Nitamb Aur Unki Lakeer Dekh Gayi Aur Maine Us Aadmi Ko Dekhkar Ankh Mar Dee । Ab To Bilkul Samajh Gaya , Ki Mere Irade Kya Hai ? Wo Mere Paas Aakar Khada Ho Gaya Aur Maine Apna Bag Uske Sahare Khada Kar Diya Aur Uske Lund Ko Pakad Liya Aur Maine Uski Lungi Me Hath Dal Diya Aur Uske Lund Ko Khinchne Lagi । Wo Aadmi Kuch Kar Nahi Paa Raha Tha Aur Pasine - Pasine Ho Raha Tha । Mujhe Maja Aa Raha Tha , Lekin Me Uske Lund Apne Sharir Par Mehsoos Karna Chahti Thi । Maine Idhar - Udhar Dekha ; Ek Aunty Mere Paas Me Khadi Thi Aur Unke Paas Kafi Saman Tha । Main Apni Seat Se Uth Gayi Aur Unko Apni Seat De Dee Aur Apna Saman Bhi Unhi Ko De Diya । Ab Main Us Aadmi Ke Samne Muh Karke Khadae Ho Gayi Aur Bilkul Sat Gayi । Ab Us Aadmi Ka Lund Mere Sharir Par Lagna Shuru Ho Gaya Tha । Bus Itni Bheed Thi , Ki Kaun Kya Kar Raha Hai , Kisi Ko Pata Hee Nahi Chal Sakta Tha । Maine Apni Skirt Ki Zip Khol Dee Aur Usase Chipat Gayi । Maine Niche Hath Daalkar Uske Lund Ko Apni Zip Se Apne Andar Ghoosa Liya Aur Wo Aadmi Bus Ke Sath Hill - HilKar Apna Lund Meri Choot Se Ragadne Laga । Maine Bhi Uska Lund Apni Tangon Se Kaskar Daba Liya Aur Uske Lund Ko Chodne Lagi । Main Uske Lund Apni Choot Se Theek Se Ragad Nahi Paa Rahi Thi , To Maine Thoda Saa JhukKar Apni panty Side Me Kar Dee Aur Uske Lund Ko Apni Choot Ke Darwaje Par Laga Diya । Ab Uska Lund Meri Choot Par Takkar Mar Raha Tha Aur Uska Lund Meri Tangon Me Ghoosa Hua Chud Raha Tha । Usane Kuch Der Baad Ek Do Tej Jhatke Mare Aur Meri panty Par Pura Pani Chhod Diya । Main To Pehle Hee Apna Pani Chhod Chuki Thi Aur Meri Choot Se Pani Dhire - Dhire Ris Raha Tha । Meri Sari panty Kharab Ho Gayi Aur Usane Apna Lund Khinch Kar Hath Daalkar Apni Lungi Se Poochh Liya । Mera Stop Aa Gaya Tha , Main Bus Se UtarKar Chali Gayi Aur Wo Aadmi Apne Raste Chale Gaya । Ham Dono Kabhi Dubara Nahi Mile , Lekin Us Din Bus Me Ras Nikalwane Me Mujhe Maja Bahut Aaya ।

No comments :

Follow Sexy Jokes in Hindi by Email

BEST WHATSAPP JOKES

HINDI CHUTKULE SEXY WHATSAPP